-->

All Kalma in Hindi | सभी कलमा हिंदी में | 6 Kalma in Hindi Pdf Download

Kalma in Hindi (कलमा हिंदी में)

बिस्मिल्लाहिर रहमानिर रहीम, अस्सलामुअलैकुम वारहमतुल्लाह वबरकतुह, इस्लाम को मानने वाले के लिए, 6 कलिमा और उनका मतलब क्या होता है ये जानना बहुत ही जरूरी है।

क्योंकि अगर कोई गैर मुस्लिम भाई है ईमान लाना चाहता है तो पहला कलमा पढ़ के ही तो अल्लाह पे ईमान लाता है, इसलिए इन कलमों का मतलब आपको जरूर पता होना चाहिए। तो चले पहले 6 कलमा को पढ़ लेते हैं फिर उसका मतलब भी समझ लेते हैं।

1 .  Pehla Kalma Tayyab in Hindi (पहला कलमा तय्यब)


لَآ اِلٰهَ اِلَّااللهُ مُحَمَّدٌ رَّسُولُ اللہِ

“ला इलाहा इलल्लाहु मुहम्मदुर्रसूलुल्लाहि”

“La Ilaha Illallaahu Muhammadur Rasoolullaah“

पहला कलमा तय्यब तर्जुमा (Pehla Kalma Tayyab Hindi Translation)


“अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं और हज़रत मुहम्मद सलल्लाहो अलैहि वसल्लम अल्लाह के  रसूल है।“

“Allah Ke Siwa Koi Mabood Nahi Aur Hazarat Mohammad Sallallahu Alaihi Wasallam Allah Ke Rasool Hai.“  

2. Doosra Kalma Shahaadat in Hindi (दूसरा कलमा शहादत)


اَشْهَدُ اَنْ لَّآ اِلٰهَ اِلَّا اللهُ وَحْدَہٗ لَاشَرِيْكَ لَہٗ وَاَشْهَدُ اَنَّ مُحَمَّدًا عَبْدُهٗ وَرَسُولُہٗ

“अशहदु अल्लाह इल्लाह इल्लल्लाहु वह दहु ला शरी-क लहू व अशदुहु अन्न मुहम्मदन अब्दुहु व रसूलुहु”

“Ash Hadu Allah Ilaha Illallaahu Wah Dahu La Sharika Lahu Wa Ash Hadu Anna Muhammadan Abduhu Wa Rasooluhu“


दूसरा कलमा शहादत तर्जुमा (Doosra Kalma Shahaadat Hindi Translation)


“मैं गवाही देता हुँ के अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं। वह अकेला है उसका कोई शरीक नहीं और मैं गवाही देता हुँ के हज़रत मुहम्मद सलल्लाहो अलैहि वसल्लम अल्लाह के नेक बन्दे और आखिरी रसूल है।“

“Me Gawahi Deta Hoon Ke Allah Ke Siwa Koi Mabood Nahi, Woh Akela Hai Aur Uska Koi Shareek Nahi Aur Me Gawahi Deta Hoon Ke Hazarat Mohammad Sallallahu Alaihi Wasallam Allah Ke Nek Bande Aur Akhiri Rasool Hai. “


3. Teesra Kalma Tamjeed (तीसरा कलमा तमजीद)


سُبْحَان اللهِ وَالْحَمْدُلِلّهِ وَلا إِلهَ إِلّااللّهُ وَاللّهُ أكْبَرُ وَلا حَوْلَ وَلاَ قُوَّةَ إِلَّا بِاللّهِ الْعَلِيِّ الْعَظِيْم

“सुब्हानल्लाही वल हम्दु लिल्लाहि वला इलाहा इलल्लाहु वल्लाहु अकबर वला हौल वला कुव्वता इल्ला बिल्लाहिल अलिय्यील अज़ीम”

“Subhanallaahi Wal Hamdulillaahi Wala Ilaha Illallahu Wallahu Akbar Wala Haula Wala Quwwata Illa Billahil Aliyyil Azeem“

तीसरा कलमा तमजीद तर्जुमा (Teesra Kalma Tamjeed Hindi Translation)


“अल्लाह की ज़ात हर ऐब से पाक है और तमाम तारीफे अल्लाह ही के लिए है। अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं और अल्लाह सबसे बड़ा है और किसी में ना तो ताकत है न बल, ताकत और बल तो अल्लाह ही में है, जो बहुत मेहरबान निहायत रेहम वाला है|“

“Allah Ki Zaat Har Aeb Se Paak Hai Aur Tamam Tarifen Allah Hi Ke Liye Hai. Allah Ke Siwa Koi Mabood Nahi Aur Allah Sab Se Bada Hai Aur Kisi Me Na To Taqat Hai Na Bal, Taqat Aur Bal To Allah Hi Me Hai, Jo Bohot Meharban Nihayat Reham Wala Hai.“

4. Chautha Kalma Tauheed (चौथा कलमा तौहीद)


لَآ اِلٰهَ اِلَّا اللهُ وَحْدَهٗ لَا شَرِيْكَ لَهٗ لَهُ الْمُلْكُ وَ لَهُ الْحَمْدُ يُحْىٖ وَ يُمِيْتُ وَ هُوَحَیٌّ لَّا يَمُوْتُ اَبَدًا اَبَدًاؕ ذُو الْجَلَالِ وَالْاِكْرَامِؕ بِيَدِهِ الْخَيْرُؕ وَهُوَ عَلٰى كُلِّ شیْ قَدِیْرٌؕ

“ला इलाह इल्लल्लाहु वह्दहु ला शरीक लहू लहुल मुल्कू व लहुल हम्दु युहयी व युमीतु वहुवा हय्युल ला यमूतु अबदन अबदा ज़ूल जलालि वल इकराम बियदिहि-हिल खैर वहुवा अला कुल्ली शैइन क़दीर”

“La Ilaha Illallahu Wahdahu La Shareeka Lahu Lahul Mulku Walahul Hamdu Yuhyi Wa Yumeetu Wa Huwa Hayyul La Yamootu Abadan Abada Zul Jalali Wal Ikraam Biyadihil Khair Wahuwa Ala Kulli Shayin Qadeer.“

चौथा कलमा तौहीद तर्जुमा (Chotha Kalma Tauheed Hindi Translation)


“अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं , वह एक है और उसका कोई साझीदार नहीं, सबकुछ उसी का है और सारी तारीफ़ें उसी अल्लाह के लिए है। वही ज़िंदा करता है और वही मारता है और वोह मौत से पाक है । वोह बड़े जलाल और बुजुर्गी वाला है। अल्लाह के हाथ में हर तरह की भलाई है और वोह हर चीज़ पर क़ादिर है।“

“Allah Ke Siwa Koi Mabood Nahi, Woh Ek Hai Aur Uska Koi Sajhidar Nahi, Sabkuch Usi Ka Hai Aur Sari Taarifen Usi Allah Ke liye Hai. Wahi Zinda Karta Hai Aur Wahi Marta Hai Aur Woh Maut Se Paak Hai. Woh Bade Jalal Aur Buzurgi Wala Hai. Allah Ke Hath Me Har Tarah Ki Bhalai Hai Aur Woh Har Cheez Par Qadir Hai.“

5. Panchwa Kalma Istigfar (पांचवाँ कलमा इस्तिग़फ़ार)


اَسْتَغْفِرُ اللهِ رَبِّىْ مِنْ كُلِِّ ذَنْۢبٍ اَذْنَبْتُهٗ عَمَدًا اَوْ خَطَا ًٔ سِرًّا اَوْ عَلَانِيَةً وَّاَتُوْبُ اِلَيْهِ مِنَ الذَّنْۢبِ الَّذِیْٓ اَعْلَمُ وَ مِنَ الذَّنْۢبِ الَّذِىْ لَآ اَعْلَمُ اِنَّكَ اَنْتَ عَلَّامُ الْغُيُوْبِ وَ سَتَّارُ الْعُيُوْبِ و َغَفَّارُ الذُّنُوْبِ وَ لَا حَوْلَ وَلَا قُوَّةَ اِلَّا بِاللهِ الْعَلِىِِّ الْعَظِيْمِؕ

“अस्तग़फिरुल्लाहा रब्बी मिन कुल्ली ज़म्बिन अज्नब्तुहू अमदन अव खता अन सिर्रन अव अलानियतन
व अतूबू इलैह मिनज़ ज़म्बिल लज़ी आलमु व मिनज़ ज़म्बिल लज़ी ला आलमु इन्नका अंता अल्लामुल गूयूबी व सत्तारिल उयूबी व गफ्फारिज़ ज़ुनूबी वला हौला वला क़ुव्वता इल्ला बिल्लाहिल अलिय्यिल अज़ीम | “

“Astagfirullaha Rabbi Min Kulli Zambin Aznabtuhu Amadan Aw Khtaa An Sirran Aw Alaniyatan Wa Atoobu Ilaihi Minaz Zambil Lazi Alamu Wa Minaz Zambil Lazi La Alamu Innaka Anta Allamul Guyoobi Wa Sattaril Uyoobi Wa Gaffariz Zunoobi Wala Hawla Wala Quwwata Illa Billahil Aliyyil Azeem.“

पांचवाँ कलमा इस्तिग़फ़ार तर्जुमा (Panchwa Kalma Istigfar Hindi Translation)


“मै अपने परवरदिगार (अल्लाह) से अपने तमाम गुनाहो की माफ़ी मांगता हुँ जो मैंने जान-बूझकर किये या भूल-चूक मे किये, छिप कर किये या खुल्लम-खुल्ला किये और तौबा करता हूँ मैं उस गुनाह से, जो मैं जनता हूँ और उस गुनाह से भी जो मैं नहीं जानता. या अल्लाह बेशक़ तू गैब कि बाते जानने वाला है और ऐबों को छिपाने वाला है और गुनाहो को बख्शने वाला है | (हम मे) गुनाहो से बचने और नेकी करने की ताक़त नहीं अल्लाह के बगैर जो के बोहोत बुलंदी वाला है।“

“Me Apne Parwardigar(Allah) Se Apne Tamam Gunaho Ki Maafi Mangta Hoon Jo Mene Jaanbujhkar Kiye Ya Bhool-Chook Me Kiye, Chip Kar Kiye Ya Khullam-Khulla Kiye Aur Touba Karta Hoon Me Us Gunah Se Jo Me Janta Hoon Aur Us Gunah Se Bhi Jo Me Nahi Janta. Ya Allah Beshak Tu Gaib Ki Baaten Janne Wala Hai Aur Aebo Ko Chipane Wala Hai Aur Gunaho Ko Bakshne Wala Hai. (Hum Me) Gunaho Se Bachne Aur Neki Karne Ki Taqat Nahi Allah Ke Bagair Jo Ke Bohot Bulandi Wala Hai.“

6. Chata Kalma Radde Kufr (छठवां कलमा रद्दे कुफ्र)


  اَ للّٰهُمَّ اِنِّیْٓ اَعُوْذُ بِكَ مِنْ اَنْ اُشْرِكَ بِكَ شَيْئًا وَّاَنَآ اَعْلَمُ بِهٖ وَ اَسْتَغْفِرُكَ لِمَا لَآ اَعْلَمُ بِهٖ تُبْتُ عَنْهُ وَ تَبَرَّأْتُ مِنَ الْكُفْرِ وَ الشِّرْكِ وَ الْكِذْبِ وَ الْغِيْبَةِ وَ لْبِدْعَةِ   وَالنَّمِيْمَةِ وَ الْفَوَاحِشِ وَ الْبُهْتَانِ وَ الْمَعَاصِىْ كُلِِّهَا وَ اَسْلَمْتُ وَ اَقُوْلُ لَآ اِلٰهَ اِلَّا اللهُ مُحَمَّدٌ رَّسُوْلُ اللهِؕ‎

“अल्लाहुम्मा इन्नी ऊज़ुबिका मिन अन उशरिका बिका शय अव व अना आलमु बिही व अस्ताग्फिरुका लिमा ला आलमु बिही तुब्तु अन्हु व तबर्रअतू मिनल कुफरी वश शिरकी वल किज्बी वल गीबती वल बिदअति वन नमीमति वल फवाहिशी वल बुहतानी वल मआसी कुल्लिहा व अस्लमतु व अकूलू ला इलाहा इल्ललाहू मुहम्मदुर रसूलुल लाह |“

“Allahhumma Inni Aaoozubika Min An Ushrika Bika Shai Aown Wa Anaa Aalamu Bihi Wa Asthaghfiruka Lima La Aalamu Bihi Tubtu Anhu Wa Tabarratu Minal Kufri Washshirki Wal Kizbi Wal Geebati Wal Bidati Wan Nameemati Wal Fawahishi Wal Buhtani Wal Maasi Kulliha Wa Aslamtu Wa Aqoolo Laa Ilaaha Illallahoo Mohammadur Rasool Ullah.“

छठवां कलमा रद्दे कुफ्र तर्जुमा (Chata Kalma Radde Kufr Hindi Translation)


“ऐ अल्लाह में तेरी पन्हा मांगता हूँ इस बात से के में किसी शेय को तेरा शरीक बनाऊ जान बूझ कर और बख्शीश मांगता हूँ तुझ से इस (शिर्क) की जिसको में नहीं जानता और मेने इससे तौबा की और बेज़ार हुआ कुफ्र से और शिर्क से और झूट से और ग़ीबत से और बिदअत से और चुगली से और बेहयाओं से और बोहतान से और तमाम गुनाहो से और में इस्लाम लाया और में कहता हूँ के अल्लाह के सिवा कोई इबादत के लायक नहीं और हज़रत मुहम्मद सलल्लाहो अलैहि वसल्लम अल्लाह के रसूल है।“

"Ae Allah Me Teri Panah Mangta Hoon Is Baat Se Ke Me Kisi Shey Ko Tera Shareek Banaoo Jaan Boojh Kar Aur Bakshish Mangta Hoon Tugh Se Is(Shirk) Ki Jisko Me Nahi Janta Aur Mene Isse Tauba Ki Aur Bezar Hua Kufr Se Aur Jhoot Se Aur Geebat Se Aur Bidat Se Aur Chugli Se Aur Behayaon Se Aur Bohtan Se Aur Tamam Gunaho Se Aur Me Islam Laya Aur Me Kehta Hoon Ke Allah Ke Siwa Koi Ibadat Ke Layak Nahi Aur Hazrat Mohammad Sallallahu Alaihi Wasallam Allah Ke Rasool Hai."

Yeh post likhne ke liye jab mene research ki to mughe bhi kaafi kuch seekhne mila aur me umeed karta hoo ke yeh post padhne ke baad aap bhi kuch na kuch zaroor seekhen honge. Ek hadees hai.

“Behtreen Sadqa Ye Hai Ke Koi Musalmaan Ilm Seekhe, Phir Apne Musalmaan Bhaai Ko Sikhaye..”-(Ibn-e-Maaja : 243)
NEXT ARTICLE Next Post
PREVIOUS ARTICLE Previous Post
NEXT ARTICLE Next Post
PREVIOUS ARTICLE Previous Post